हया तो गहना है औरत का
नज़रों से मगर क़यामत वो ढाती है
दुनिया की हसरत भरी निगाहों को
अपने दामन में चुपके से समाती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here