तेरी हर जीत में मेरी दुआ है शामिल
तेरी हार में मैं तेरा हाथ थामे खड़ा हूँ
तेरी आँखो में बसा सावन हूँ मैं
हर आँसू जहाँ गिरे मैं तेरा दामन हूँ
ना मिले जब साहिल कोई
थाम लूँगा बढ़ कर पलकों पे अपनी
सब्र रखना कुछ और मुझ पर यक़ीन
ना टूटने दूँगा कभी तेरी उम्मीद
तेरी हर हँसी का हमसफ़र हूँ मैं
तेरे मन में तेरी रूह में बसर हूँ मैं
हो कभी तू उदास तो मैं तेरे पास हूँ
मुश्किल हर घड़ी में राहत की साँस हूँ
बेचैनी भरे दिल का सुकून हूँ
और जो सर चढ़ कर बोले वो जुनून हूँ मैं
गिरे जब भी तू ठोकर खा कर
तेरी हर चोट का मरहम हूँ मैं
तनहा कभी ख़ुद को महसूस करे
तेरा साया बन तेरे क़रीब हूँ मैं
कड़ी चिलमिलती धूप में
प्यार की छाया बनकर साथ हूँ मैं
गरजते बादलों में चंद बारिश की बूँदें
और पत्ते पर गिरती सुबह कीओस हूँ मैं
हवा के झोंके में बसा हूँ
और सागर की हर लहर में हूँ मैं
हर क़दम पर तेरा हौसला हूँ
तेरा ग़ुरूर हूँ और तेरा विश्वास हूँ मैं
ना ढूँढ मुझे ख़ुद से दूर अपने
तेरा ही एक अटूट हिस्सा
तुझमें हूँ कहीं और
तू ही तो हूँ मैं

close

Don’t miss my writings!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here