जब भी मुझे तेरी याद आई कान्हा
तेरी बांसुरी की धुन कर गई दीवाना
छोड़ लोग लाज मैं दौड़ी चली आई
बचपन की सखियाँ भी हुई पराई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here