मंज़िल की खबर नहीं
रास्ते भी अनजान हैं
वक़्त है मुट्ठी में और
ढूँढनी अपनी पहचान है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here