वीराना छाया है हर ओर
कि आहट सुनाई देती नहीं कोई
वो ज़ोर ख़रोश भरी आवाज़ें
ना जाने है कहाँ खोई।

close

Don’t miss my writings!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here